Wednesday, October 21, 2009

मेरा सफर है,जहां तक,मंजिल के निशान रहें
चलेंगे जब तलक , सिर पर आसमान रहे।
ऐसा नहीं कि कदमों तले ही मिल जाए मंजिल
मजा तो जब कि पैरों में कुछ थकान रहे।
उस शख्स की आंखों में देखा है मैंने शैतान
है वो अपना,लेकिन फिर भी सावधान रहे।
मुङो जमीन की गहराईयों ने दाब दिया
मैं चाहता था मेरे सर पर आसमान रहे।
खत्म हुआ रिश्तों का सफर दुश्मनी के बाद
मगर ये अदावत हमारे ही दरमियाँ रहे।
उसके कांपते होंठो के सवालों का जवाब देना है
ए खुदा सलामत मेरी जबान रहे।
मैं हारा तो जहां में हारेगी मुहब्बत साहिल
मेरी जीत में शामिल कुछ प्यार का सम्मान रहें।
-----------------------------------------------------

2 comments: